APJ Abdul Kalam in Hindi | Biography of Dr. Kalam in Hindi

APJ Abdul Kalam in Hindi : Dr. APJ Abdul Kalam का जन्म अक्टूबर 15, 1931 में हुआ | उनकी Death जुलाई 27, 2015 में हुई उन्होंने भारतीय वैज्ञानिक और पॉलिटिक्स के बहुत ही इंपॉर्टेंट रोल को निभाया | जिसमें उन्होंने India’s Missile और Nuclear Weapons के प्रोग्राम को संभालने के लिए सम्मानित किया गया | वे 2002 से 2007 तक भारत के राष्ट्रपति थे |

APJ Abdul Kalam in Hindi
APJ Abdul Kalam in Hindi

डॉक्टर कलाम ने भारत में आर्थिक विकास को Technical Development के साथ हासिल करने के लिए 20 साल की योजना बनाई | डॉ कलाम ने काफी सारी बुक्स लिखी जिसमें से उनकी Autobiography ‘Wings of Fire’ जो उन्होंने 1999 में लिखी थी वह भी शामिल है | उन्होंने बहुत सारे Awards जीते जिसमें Country’s Highest Honour Awards, The Padma Vibhushan Award, और Bharat Ratna में शामिल है |

उनके Nation civilian Space Program और मिलिट्री मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम में योगदान की वजह से उनको Missile Man of India के नाम से भी जाना जाता है | उन्होंने 1998 में Pukhran-2 Nuclear Test में अहम योगदान दिया | So दोस्तों डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी और APJ Abdul Kalam in Hindi | Biography of Dr. Kalam in Hindi के बारे में Details में जानने के लिए यह Article End तक पढ़ें | 

APJ Abdul Kalam in Hindi | Biography of Dr. Kalam in Hindi

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम में एक तमिल मुस्लिम परिवार में हुआ जो तब ब्रिटिश इंडिया में मद्रास प्रेसिडेंसी में और अब तमिलनाडु में हैं | उनके पिता का नाम जैनुलआबिद्दीन था जो एक Boat Owner थे और एक मस्जिद में इमाम भी थे | उनकीMother का नाम Ashiamma था | जो घर संभालती थी |

डॉक्टर कलाम पांच भाई बहन थे जिसमें वह सबसे Young थे | सबसे बड़ी बहन का नाम Asim Johra था और तीन बड़े भाई थे – Mohammed Muthu Meera, Mustafa Kalam, Kasim Muhammed | वह अपनी फैमिली के बहुत करीब थे जिनकी उन्होंने हमेशा हेल्प की इसलिए उन्होंने कभी शादी भी नहीं की |

उनके परिवार के लोग बहुत अमीर व्यापारी थे जिनकी बहुत सारी Property थी उनके परिवार को Marakier बोला गया लेकिन 1920 के दशक में उनके परिवार के सदस्यों ने सब फार्च्यून खो दिया | उनकी Businesses Fail हो गए जब तक कलाम पैदा हुए उनके परिवार को दिक्कत आने लगी थी परिवार की मदद करने के लिए कलाम नें Young Age में ही Newspaper बेचना शुरू कर दिया था |

School Life of Dr. APJ Abdul Kalam in Hindi

स्कूल के दिनों में कलाम के Marks Average थे लेकिन कलाम को एक Bright & Hardworking Students मानते थे जो बहुत सीखना चाहते थे | Mathematics में उनका इंटरेस्ट बहुत ज्यादा था | उन्होंने अपनी Schooling Ramanathapuram से की | बाद में उन्होंने Saint Joseph’s College से Physics में Graduation की |

1955 में वह Aerospace Engineering करने के लिए मद्रास गए | अपने 3rd Year of Graduation में कुछ Students के साथ मिलकर उनको बेस लेवल के लड़ाकू एयरक्राफ्ट बनाने का प्रोजेक्ट मिला | उनकी टीचर ने उन्हें बहुत कम वक्त दिया जिसमें उसे खत्म करना मुश्किल था | कलाम ने बहुत प्रेशर में काम किया और वक्त पर काम भी पूरा किया | Teachers कलाम के डेडिकेशन से बहुत प्रभावित थे | इसलिए कलाम Fighter Pilot बनना चाहते थे पर उन्हें 9 वीं पोजीशन मिली और सिर्फ 8 ही पोजीशन अवेलेबल थी |

College Life of Dr. APJ Abdul Kalam in Hindi

Dr. Kalam ने Graduation 1957 में Madras Institute of Technology से की और 1958 में एक Scientist के रूप में उन्होंने Aeronautical Development Establishment of Defense Research & Development Organization जिसको DRDO भी कहा जाता है उसको Join किया | 1960 के दशक में उन्होंने Indian National Committee for Space Research के साथ काम किया जिसमें उनके साथ बहुत ही Famous Scientist Vikram Sarabhai भी साथ में थे | उन्होंने DRDO में एक छोटे से Hovercraft की डिजाइनिंग के साथ शुरुआत की |

APJ Abdul Kalam in Hindi

Nasa’s Langely Research Centre in Hampton Virginia में Visit के बाद 1965 में DRDO के साथ उन्होंने एक्सपेंडेबल रॉकेट प्रोजेक्ट पर Independently काम करना शुरू किया | वो DRDO के साथ काम करने में सेटिस्फाइड नहीं थे और जब 1969 में उन्हें ISRO में ट्रांसफर किया गया तो वह खुश हो गए | वहां वह SLV-3 के प्रोजेक्ट डायरेक्टर बने जहां उन्होंने जुलाई 1980 में सफलतापूर्वक Rohini Satellite Deploy किया | यह भारत का सबसे बड़ा डिजाइन किया गया सेटेलाइट लॉन्चिंग वाहन था |

Space Program of Dr. Kalam :

डॉ कलाम ने 1969 में सरकार की मंजूरी प्राप्त की और अधिक इंजीनियरों को शामिल करने के लिए कार्यक्रम तैयार किया | 1970 के दशक में उन्होंने Polar Satellite Launch Vehicle PSLV को डेवलप करना शुरू किया जिससे भारत के पास अपना इंडियन रिमोट सेंसिंग सैटलाइट ऑर्बिट में भेजा |

PSLV सितंबर 1993 में अपने पहले Attempt में ही सफल रहा | राजा रमन्ना ने डॉक्टर कलाम को देश के पहले Nuclear Test Smiling Buddha के लिए Invite किया जबकि उन्होंने उसकी development में कोई योगदान नहीं दिया था |

Missile Programs of Dr. APJ Abdul Kalam in Hindi

1970 के दशक में अब्दुल कलाम 2 Project को Direct किया जिसका नाम था Project Davil और Project Valiant | Project Davil एक Liquid Fuiled Missile थी जिसका एक Short Range की मिसाइल बनाना था जो कि जमीन से आसमान में निशाना लगा सके | यह 1980 के दशक में सफल नहीं हुआ और इसको बंद कर दिया गया और बाद में इसको पृथ्वी मिसाइल बनाया गया |

दूसरी तरफ पर Project Valiant Intercontinental  इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल बनाने लगे यह प्रोजेक्ट भी सफल नहीं था | 1980 के दशक में Indian Ministry of Defense ने DRDO के साथ पार्टनरशिप करके Integrated Guided Missile Development Program को लांच किया |

Chief Executive fo DRDO :

डॉक्टर कलाम को इस प्रोजेक्ट को लीड करने के लिए बोला गया और 1983 में वह DRDO में as a Chief Executive वापस आ गए | इस प्रोग्राम में चार प्रोजेक्ट पर डेवलपमेंट हुई – Short Range Surface to Surface Missile -Prithvi, Short Range Low Level Surface to Air Missile, Trishul, Medium Range Surface to Air Missile – Akash और Third Generation Anti Tank Missile Nag |

अब्दुल कलाम के नेतृत्व में प्रोजेक्ट IGMDP Successful रहा और 1988 में Agni Missile का निर्माण किया गया | डॉ कलाम के Great vision की वजह से उनको Missile Man of India के नाम से जाना जाने लगा |

1992 में उन्हें वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया | Cabinet Minister के Rank पर 1999 में उन्हें भारत सरकार के लिए मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में भी नियुक्त किया गया था | 1998 में डॉ कलाम ने Pokhran 2 की सफलता में बहुत अहम रोल अदा किया जो एक सीरीज 5 Nuclear Bomb की Test की थी इसकी सफलता के बाद उन्हें नेशनल हीरो माना गया और इसके बाद उस वक्त के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी ने इंडिया को पूर्ण रूप से Nuclear State घोषित कर दिया |

सिर्फ यह ही नही 1998 में डॉ कलाम ने भारत को 2020 तक एक विकसित राष्ट्र बनाने के लिए एक संभावित योजना बनाई और इसमें Nuclear Empowerment Technological Innovations और Agriculture को कैसे बढ़ाया जाए इस पर भी ध्यान दिया गया |

Political Career of Dr. APJ Abdul kalam in Hindi

2002 में National Democratic Alliance (NDA) राष्ट्रीय डेमोक्रेट गठबंधन को पावर मिली और डॉक्टर कलाम को भारत के राष्ट्रपति पद के लिए चुना गया | उनकी Popularity की वजह से उन्हें यह पद आसानी से मिल गया | 10 जून 2002 को NDA सरकार ने Dr. Kalam को विपक्ष के नेता सोनिया गांधी जी के सामने खड़ा किया गया | 

डॉ कलाम ने 25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007 तक भारत के राष्ट्रपति के रूप में कार्यभार संभाला | वह सबसे पहले Scientist और Bachelor थे जिनको राष्ट्रपति भवन में जगह मिली | उन्होंने कहा,

“एक Leader का Vision होना बहुत जरूरी है, अपनी Organization के लिए काम के लिए Passion होना, अपने Goals को Achieve करने के लिए नए रास्ते पर चलने का Excitement और Decision लेने की क्षमता होनी चाहिए |”

क्या आप जानते हैं राष्ट्रपति चुनाव में उन्हें 922884 वोट मिले जिससे उन्होंने लक्ष्मी सहगल को हराया वह KR नारायणन के बाद भारत के 11 राष्ट्रपति बने | उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया | वो यह सम्मान मिलने वाले तीसरे राष्ट्रपति थे | डॉ कलाम को लोगों का राष्ट्रपति भी कहा गया | उनके 5 वर्ष के कार्यकाल के दौरान वह भारत को as a Develop राष्ट्र देखने के लिए कमिटेड थे | उन्होंने 2007 में आयोजित किए गए राष्ट्रपति चुनाव पर विचार नहीं किया और 25 जुलाई 2007 को इस पद को छोड़ दिया |

Career in Academic Field :

कार्यकाल से बाहर आने के बाद डॉक्टर कलाम को Academic Field में चुना गया और वह Indian Institute of Management Shillong Indian Institute of Management Ahmedabad, Indian Institute of Management Indore, Indian Institute of Science Bangalore में Visiting Professor बन गए |

उन्हें Indian Institute of Space Science and Technology Thiruvanathapuram में चांसलर चुना गया | Aerospace Engineering at Anna University में प्रोफेसर बने और बहुत सारे और एकेडमिक और रिसर्च इंस्टीट्यूशन में कॉन्ट्रिब्यूशन किया |

उन्होंने International Institute of Information Technology हैदराबाद में इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी को पढ़ाया और Banaras Hindu University और Anna University में टेक्नोलॉजी बेस लेक्चर भी लिए, डॉक्टर कलाम ने ‘What can I Give Moment ‘ भी लॉन्च किया जिसका मकसद corruption को खत्म करना था |

Last Moment of Dr. Kalam Life’s :

27 जुलाई 2015 को IIM शिलांग में जब डॉक्टर कलाम एक लेक्चर ले रहे थे उनको हार्ट अटैक आया और उनकी कंडीशन क्रिटिकल हो गई बाद में उन्हें विठानी हॉस्पिटल शिफ्ट कर दिया गया जहां उनकी डेथ Cardiac Attack की वजह से हुई | उनके Last Word सृजन पाल सिंह को थे वो थे – ‘Funny Guy! Are you Doing Well?’

Late डॉक्टर कलाम की याद में रामेश्वर के आइसलैंड टाउन में उनकी याद में डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम मेमोरियल का निर्माण हुआ | 27 जुलाई 2017 को भारत के प्रधानमंत्री ने इसका इनॉग्रेशन किया |

मेमोरियल में उनके रॉकेट की कॉपी और मिसाइल रखे गए उनका काम दर्शाते हैं उनके साथ साथ बहुत सारी Painting जो उनकी Life पर रोशनी डालती हैं | Entrance में ही डॉक्टर कलाम का एक Statue है जिसमे वो वीणा बजा रहे है उसी के साथ उनके दो Statue और हैं जिनमें वह बैठे हैं और 1 जिसमे वह खड़े हैं |

Conclusion :

I Hope यह Article आपको अच्छी लगी होगी | I hope आपको इससे और भी Knowledge मिली होगी | और हम आशा करते है कि अब आपको APJ Abdul Kalam in Hindi | Biography of Dr. Kalam in Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी और आपको Dr. Abdul kalam के अद्भुत जीवन के बारे में पता चल गया होगा |

अगर आपको हमारा ये Article पसंद आया है तो Please इसे अपने दोस्तों के साथ Share करें | और हमे Comment करके जरूर बताएं कि आपको हमारा ये Article कैसा लगा | और आगे किस बारे में जानना चाहते है वो भी हमे Comment box में जरूर बताएं | 

Dheeru Rajpoot

I am Dheeru Rajpoot an Entrepreneur and a Professional Blogger from the city of love and passion Kanpur Utter Pradesh the Heart of India. By Profession I'm a Blogger, Student, Computer Expert, SEO Optimizer. Google Adsense I have deep knowledge and am interested in following Services. CEO - Dheeru Blog ( Dheeru Rajpoot )

Leave a Reply